E-Invoice Kaise Banaye | GST E-invoice Hindi Updated 2021

E-Invoice Kaise Banaye : आज हम बात करने वाले हैं E-invoice के बारे में,  आज के समय में व्यापार के लिए Accounting एक बहुत ही अहम हिस्सा बन चुका है | इसी वजह से अकाउंट में नए-नए बदलाव आते रहते हैं | e-invoice के बारे में, साल 2021 एक नया बदलाव लेकर आया है | जी दोस्तों, मैं बात कर रही हूं 2021 से लगने वाले इस नए नियम के बारे में तो चलिए शुरू करते हैं..

E-Invoice Under GST Hindi

अगर बात करी जाए | E-Invoice Under GST | के बारे में,  E-Invoice In GST,  उन सामान्य Tax Invoice से बहुत ही अलग है|  असल में Invoice एक ऐसा बिल है जो कि Online Generate होकर सबमिट किया जाता है | पर अगर बात करें Tax Invoice की तो उससे हम आम तौर पर अपने Accounting Software द्वारा जनरेट करते हैं | अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर जैसे कि Tally Software, SAP, etc.

अगर आप अकाउंट में ही रुचि रखते हैं, तो आपने E-way Bill के बारे में जरूर सुना होगा | E-way Bill एक ऐसा बिल है, जो कि ऑनलाइन बनाया जाता है  और जो कि किसी भी सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है |

GST Counselling की 35 वीं बैठक में E-invoice को लाने का सुझाव दिया गया था | इसीलिए यह April 2021 से नया नियम के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है |

e-invoice kaise banaye

E-invoice Kya Hai | Electronic Invoice | Digital Invoicing |

E-Invoice Full Form : Electronic Invoice

E-invoice को दो अलग-अलग नामों से भी बुलाया जाता है, जो है :

  1. Electronic Invoice
  2. Digital Invoice

इन दोनों का तात्पर्य एक ही है | E-invoice एक ऐसा Invoice है, जो कि ऑनलाइन जनरेट किया जाता है | Business 2 Business (B2B) GSTIN के द्वारा इस E-Invoice का इस्तेमाल एक इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रमाणित करने के लिए किया जाता है |

Invoice Registration Portal (IRP) के द्वारा ही इस Invoice को बनाया जाता है | Invoice Registration Portal अपने सभी यूजर्स को एक अलग तरह का नंबर प्रदान करता है, जिससे कि वह इस पोर्टल का इस्तेमाल कर पाए |

असल में Invoice Registration Portal के द्वारा जो भी Invoice बनते हैं, उन्हें GST Portal पर ट्रांसफर करके और फिर वहां से भी nvoice Portal पर भेजा जाता है |

E-Invoice कब लागू किया गया था?

E-Invoice का पहला नोटिफिकेशन 10th November 2020 में आया था | जोकि Notification No. 88/2020 के द्वारा प्रस्तुत किया गया था |

परंतु 1 जनवरी 2021 से यह लागू किया गया है, कि पूरे साल का GST Turnover 100 करोड़ से अगर ज्यादा होता है तभी आपको Invoice बनाने की आवश्यकता होती है |

E-Invoice Kaise Banaye ?

GST E-Invoice Kaise Banaye : Invoice बनाने के लिए आपको 4 Steps का इस्तेमाल करना होगा, जो कि नीचे बताए गए हैं:

Step 1: Generating E-Invoice

नीचे दिए गए सभी चीजों को आपने सही सही भरना होगा :

SN Name of Fields Description
1 Document Type Code आप किस तरीके का Document Generate करना चाहते हैं, वह चुनिए जैसे कि INV/CRN/DBN
2 Supplier Legal Name  Supplier का Legal Name लिखिए
3 Supplier GSTIN  यहां Supplier का GST Number डालिए
4 Supplier Address Supplier का पूरा पता लिखिए
5 Supplier Place Supplier कहां से सप्लाई कर रहा है, उस जगह का नाम लिखिए
6 Supplier State Code Supplier का State Code डालिए
7 Supplier Pincode  यहां पिन कोड डालिए
8 Document Number आपके अनुसार जो भी Invoice Series चल रही है, वह नंबर डालिए  जैसे कि AV/2021-22/033
9 Preceeding Invoice Reference And Date  यहां अपने Invoice Number और उसकी तारीख लिखिए
10 Document Date  जिस भी तारीख को आप का Invoice जारी किया गया है, वह तारीख डालिए
11 Recipient Legal Name  यहां Buyer का पूरा नाम लिखिए
12 Recipient’s GSTIN Buyer का GST Number डालिए
13 Recipient’s Address Buyer का पूरा पता लिखिए
14 Recipient’s State Code Buyer का State Code लिखिए
15 Place of Supply State Code  आप किस जगह से अपना माल सप्लाई कर रहे हैं, जगह का State Code कोड डालिए
16 Pincode  पिन कोड डालिए
17 Recipient Place Buyer के शहर का नाम लिखिए
18 IRN- Invoice Reference Number  रजिस्ट्रेशन करते वक्त जो आपको Invoice Reference Number नंबर मिला था, उसे यहां लिखिए
19 Shipping To GSTIN अगर माल सीधा Buyer की जगह पर ना जाकर, कहीं तीसरी जगह पर भेजा जा रहा है, तो उस जगह का GST Number डालें
20 Shipping To State, Pincode And State Code  उसी जगह का आप राज्य State Code और पिन कोड लिखिए
21 Dispatch Form : Name, Address, Place And Pincode  जिसमें जगह से माल भेजा जा रहा है, उस जगह का पूरा पता नाम शहर और पिन कोड लिखिए
22 Is service Yes/No Option
23 Supply Type Code Supply Type Code को Select करिए, जैसे कि B2B, B2C.
24 Item Description  माल का ब्यौरा दीजिए
25 HSN Code  माल का HSN Code लिखिए
26 Item Price   माल का मूल्य लिखिए
27 Assessable Value  अगर आपने उस माल पर Discount दे रखा है, तो उसे हटा कर माल की Net Value डालिए
28 GST Rate  माल पर कितने % का GST Tax लग रहा है | वह चुनिए, जैसे कि 12%, 18%, 28%
29 IGST, CGST And SGST  माल पर किस तरह का टैक्स लगाया जा रहा है, वह चुनिए जैसे कि IGST, CGST+SGST
30 Total Invoice Value   पूरे बिल का Total Invoice Amount  लिखिए

Step 2: Generate Unique IRN

इसके बाद हमें IRN Generate करना होगा | IRN को Hash कहा जाता है, असल में IRN वह नंबर है, जो कि e-invoice system के द्वारा जनरेट किया जाता है | इस डॉक्यूमेंट को जनरेट करते वक्त आपको 64 characters IRN प्राप्त होगा |

IRN जनरेट करने के लिए दो तरीके अपनाए जाते हैं, जो हैं :

  1. Offline Mode
  2.  API के द्वारा

Step 3: Upload JSON

इसके बाद आपको  पिछले बिल का JSON  अपलोड करना होगा | अपलोड करने के लिए 3 तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है, जो हैं:

  • Invoice Registration Portal IRP  के द्वारा
  • GST Suvidha Provider GSP  के द्वारा
  • Third-party applications ( सम्मिलित APIs)

Step 4: Validation/Hash Generation

अब बात आती है, Validation की, दोस्तों अगर आपने बिना Hash के ही अपना Invoice अपलोड कर दिया है | तो आपको उस वक्त, Hash को भी जनरेट करना होगा | क्योंकि Hash एक ऐसा सबूत है, जो कि आपके IRN को Verify करने के लिए किया जाता है |

IRP से ही आपको IRN जनरेट करना होता है |

यह Verification पूरी होने के बाद जो IRN होता है | वह केंद्रीय रजिस्ट्री(Central Registry) में सबमिट किया जाता है, इसी के बाद ही आपको IRP (Invoice Registration Portal) की तरफ से QR Code और साथ ही Digital Invoice Sign Generate होता है |

अब यह बिल पूरी तरीके से Supplier के लिए उपलब्ध हो जाता है|

Conclusion

इस पोस्ट में हमने जाना कि | E-invoice Kya hai | E-Invoice Kb Lagu Hua Tha | और साथ ही E-invoice Kaise Banaye , E-Invoice बनाने के लिए कौन-कौन से Steps का इस्तेमाल करना होगा, इस पोस्ट में बताया गया है |

E-Invoice Process लाने का सिर्फ एक ही मकसद है, ताकि कोई भी व्यक्ति टैक्स की चोरी ना कर पाए |

साथ ही अगर आप e-invoice ऑनलाइन जनरेट कर रहे हैं, तो यह बात ध्यान जरूर रखें कि जो भी जानकारी आप Invoice बनाते वक्त दे रहे हैं, वह बिल्कुल सही हो , क्योंकि अगर उस दौरान कोई भी आपकी गलती होती है, तो वह आपको GSTR Form में दिक्कत देगी |

उम्मीद करते हो दोस्तों आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं और साथ ही इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें |

1 thought on “E-Invoice Kaise Banaye | GST E-invoice Hindi Updated 2021”

  1. Pingback: How To Delete Company In Tally | Tally Me Company Kaise Delete Kare

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!